क्रिप्टो करेंसी क्या है ? what is cryptocurrency ?

 तो आखिर क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency in Hindi)

Cryptocurrency kya h cryptocurrency kaise khriden how to buy cryptocurrency


आज जिसे देखो वह क्रिप्टोकरंसी के पीछे भाग रहा है। बहुत ही कम समय में फाइनैंशल मार्केट में क्रिप्टो करेंसी ने खुद को मजबूत कर लिया है। क्रिप्टो करेंसी को डिजिटल करेंसी भी कहा जा सकता है,यह ऑनलाइन ही अवेलेबल है और हम इसे पेपर करेंसी कितना छू नहीं सकते।


दूसरी currencies जैसे भारत में rupees अमेरिका में Dollar यूरोप में Euro इत्यादि को सरकार पूरे देश में लागू करती हैं। और इस्तेमाल में लाए जाते हैं ठीक वैसे ही क्रिप्टो करेंसी को भी पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है परंतु यहां समझने वाली बात यह है कि क्रिप्टो करेंसी पर किसी भी देश की सरकार का कोई नियंत्रण नहीं होता क्योंकि ये decentralized currency होती है इसीलिए इस पर किसी भी एक देश की सरकार एजेंसी या वर्ल्ड बैंक जैसी किसी भी संस्था का कोई नियंत्रण नहीं होता है। इसीलिए इसके मूल्य को नियंत्रित नहीं किया जा सकता।


इसीलिए हम आज क्रिप्टो करेंसी के बारे में बात कर रहे हैं क्योंकि यह एक बहुत ही डिफरेंट करेंसी है और बहुत से लोग इसके बारे में नहीं जानते और जो जानते हैं वह इससे बहुत फायदा ले रहे हैं इसीलिए इस करेंसी के बारे में जानना आपके लिए बेहद जरूरी है तो चलिए शुरू करते हैं।

What is Digital marketing 

What is Affiliate Marketing 

What is share market 


 Whoever you see today is running after crypto.  In a very short span of time, crypto currency has strengthened itself in the financial market.  Crypto currency can also be called digital currency, it is available online and we cannot touch it as paper currency.


 The government implements other currencies like Rupees in India, Dollar in America, Euro in Europe etc., all over the country.  And they are used, in the same way crypto currency is also used all over the world, but the thing to be understood here is that there is no control of the government of any country on crypto currency because it is a decentralized currency, that's why on it.  The government agency of any one country or any institution like the World Bank has no control.  Therefore its value cannot be controlled.


 That is why we are talking about crypto currency today because it is a very different currency and many people do not know about it and those who know are taking a lot of benefit from it, that is why knowing about this currency is very important for you.  If necessary, let's get started


क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency in Hindi)


क्रिप्टो करेंसी को डिजिटल करेंसी भी कहा जाता है यह 1 तरीके की डिजिटल संपत्ति होती है। जिसका इस्तेमाल चीजों की खरीदारी या सर्विसेज के लिए किया जाता है।

इन करेंसीज में क्रिप्टोग्राफी का इस्तेमाल होता है यह एक peer to peer electronic सिस्टम होता है जिसका इस्तेमाल हम इंटरनेट के माध्यम से रेगुलर करेंसी की जगह सामान और सर्विसेज खरीदने के लिए करते हैं इस व्यवस्था में सरकार या बैंक को बताए बगैर भी काम किया जा सकता है इसीलिए कुछ लोगों का मानना है कि क्रिप्टोकरंसी का इस्तेमाल गलत तरीके से भी किया जा सकता है।


अगर हम सबसे पहले क्रिप्टोकरंसी की बात करें तो वह होगा बिटकॉइन जिन्हें सबसे पहले दुनिया में इन्हीं कार्यों को करने के लिए लाया गया था। अगर आज हम देखें तो 1000 से भी ज्यादा क्रिप्टो करेंसी पूरी दुनिया में मौजूद हैं।लेकिन इनमें से कुछ ही करेंसीज महत्वपूर्ण है जिन के विषय में हम आगे चल कर बात करेंगे।


क्रिप्टो करेंसी को बनाने के लिए क्रिप्टोग्राफी का इस्तेमाल किया जाता है। अगर हम सभी क्रिप्टोकरंसी की बात करें तो उनमें से जो सबसे पहले प्रसिद्ध हुआ है वह बिटकॉइन। इसे सबसे पहले भी बनाया गया था और जिसे सबसे ज्यादा इस्तेमाल भी किया जाता है। बिटकॉइन को लेकर काफी विवाद भी हुए हैं लेकिन मैं आज आपको ऐसी क्रिप्तोकरेंसी के बारे में बताऊंगा जिनके बारे में आपने शायद सुना हो।

What is Starlink Internet 

How to Earn Money by Playing Games 

What is currency inflation 

What is Crypto Currency?  (Cryptocurrency in English)


 Crypto currency, also called digital currency, is a type of digital asset.  Which is used for the purchase of things or services.

 Cryptography is used in these currencies, it is a peer to peer electronic system that we use to buy goods and services in place of regular currency through the Internet, in this system work can be done without informing the government or bank.  That's why some people believe that cryptocurrency can also be used in a wrong way.


 If we talk about the first cryptocurrency, then it will be bitcoin which was first brought into the world to do these functions.  If we see today, there are more than 1000 crypto currencies present in the whole world. But only a few of these currencies are important, which we will talk about later.


 Cryptography is used to create crypto currency.  If we talk about all cryptocurrencies, then the first of them to become famous is bitcoin.  It was also made first and which is also used the most.  There have also been many controversies regarding bitcoin, but today I will tell you about such a cryptocurrency that you may have heard about.


Cryptocurrency kya hai cryptocurrency kaise khriden how to buy cryptocurrency
क्रिप्टो करेंसी क्या है ? what is cryptocurrency ?


क्रिप्टो करेंसी के प्रकार: (cryptocurrency in Hindi)


वैसे तो क्रिप्टो करेंसी बहुत सारे हैं परंतु उनमें से कुछ ही ऐसे करेसी हैं जो अच्छा परफॉर्म कर रहे हैं जिन्हें आप बचपन के अलावा भी इस्तेमाल कर सकते हैं।


1) Bitcoin BTC:


अगर हम क्रिप्टोकरंसी की बात करें और उसमें बिटकॉइन की बात ना हो तो यह तो नामुमकिन ही है क्योंकि बिटकॉइन दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली क्रिप्टोकरंसी है जिसे सतोशी नाका मोटो ने 2009 में बनाया था।


यह एक डिजिटल करेंसीज है जिससे कि केवल ऑनलाइन ही गुड्स और सर्विसेज खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह एक डिसेंट्रलाइज्ड करंसी है जिसका मतलब है कि इस पर किसी भी देश की गवर्नमेंट संस्था या वर्ल्ड बैंक जैसी किसी भी ऑर्गेनाइजेशन का कोई नियंत्रण नहीं होता।


अगर हम आज के बाद करें तो इसकी कीमत आज के दिन बहुत बढ़ गई है इसका एक Coin 4300000 रुपए का है। इससे आप इसके वर्तमान के महत्व के बारे में पता लगा सकते हैं।


2) एथेरियम (ETH):


बिटकॉइन के जैसे ही एथेरियम भी open source decentralized blockchain based computing platform है इसको vitarik buterin नामक व्यक्ति ने बनाया था।इसके cryptocurrency token को Ether भी कहा जाता है।


ये platform इसके users को digital token बनाने में मदद करता है जिसकी मदद से इसे करेंसी के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। हाल ही में हुए एक hard fork के चलते एथेरियम दो भागों में विभाजित हो गया Etherem ETH और Etheriem classic ETC बिटकॉइन के बाद यह सबसे ज्यादा पैसे क्रिप्टोकरंसी है।


3) Lightcoin LTC: 


Litecoin भी एक decentralized peer to peer cryptocurrency है जिसे की एक open source software जो कि रिलीज हुआ है under the MIT/X11 license के अन्तर्गत October 2011 में Charles Lee के द्वारा जो कि पहले एक गूगल एम्पलाई रह चुके हैं।


इसके बनने के पीछे बिटकॉइन का बहुत बड़ा हाथ है और इसकी बहुत सारी फीचर्स बिटकॉइन से मिलती-जुलती हैं। LightCoin की Block generation की timeme bitcoin के मुकाबले 4 गुना कम है। इसलिए इसमें ट्रांजैक्शन बहुत ही जल्दी हो जाता है। इसमें स्क्रिप्ट एल्गोरिथ्म का इस्तेमाल होता है mining के लिए।


4) Dogecoin (DOGE):


Dogecoin के बनने की कहानी बहुत रोचक है। इसे बिटकॉइन का मजाक करने के लिए कुत्ते से इसकी तुलना की गई जिसमें आगे चलकर एक क्रिप्टो करेंसी का रूप ले लिया। इसके फाउंडर का नाम है Billy Markus। LightCoin की तरह इसमें भी स्क्रिप्ट एल्गोरिथ्म का इस्तेमाल होता है।


आज Dogecoin की कीमत $197 million से भी ज्यादा और पूरे विश्व में 200 merchants se bhi ज़्यादा में accept किया जाता है। इसमें भी माइनिंग दूसरों के मुकाबले बहुत जल्दी होती है।


5)Faircoin(FAIR):


Fair coin एक बहुत ही बड़े Grand socially conscious vision का हिस्सा है। Jo ki Spain base co-operative organisation है और जिसे Catalan integral cooperative organisation or CIC के नाम से भी जाना जाता है।


यह बिटकॉइन की ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है लेकिन यह ज्यादा socially constructive design के साथ दूसरे cryptocurrencies जैसे- faircoin mining or minting new coins के ऊपर तो बिल्कुल भी निर्भर नहीं करता है।


लेकिन उसकी जगह यह certified validation nodes or    CNDNs का इस्तेमाल करते हैं block generation के लिए proof of stack or proof of work के बदले में। Process of cooperation का इस्तेमाल किया जाता है।


6) Dash (DASH): 


इसके पहले नाम थे Xcoin और Darkcoin, Dash का अर्थ है की Digital और cash ये एक open source peer to peer cryptocurrency है जो बिटकॉइन का जैसे ही है।


लेकिन इसमें बिटकॉइन की अपेक्षा ज्यादा फीचर्स मौजूद हैं जैसे कि privetsend,instentsend में यूजर्स अपने ट्रांसेक्शन को पूर्ण कर सकते हैं वहीं privetsend में transaction पूरी तरह safe रहता है जहां की यूजर्स पॉलिसी को काफ़ी importance दिया जाता है 


Dash में एक uncommon algorithm का प्रयोग होता है जिसे की X11 कहते हैं जिसकी खासियत ये है कि ये बहुत कम पावरफुल hardware से भी compatible हो जाता है जिसे ज्यादा से ज्यादा लोग अपने करेंसी को खुद ही माइन कर सकें। X11 बोहोत ही energy efficient algorithm है जो कि स्क्रिप्ट की तुलना में 30% तक कम बिजली की खपत करता है।


7)Peercoin(PPC):


Peercoin जो कि पूरी तरह से  बिटकॉइन प्रोटोकॉल पर based है और जिसमें की बहुत सी source code दोनों से मिलती जुलती है। इसमें ट्रांजैक्शन को वेरीफाई करने के लिए केवल proof of work पर निर्भर नहीं किया जाता बल्कि इसके साथ proof of stake system को भी नजर में रखा जाता है।


जैसे कि नाम से ही पता चलता है कि peer coin भी peer to peer cryptocurrency है bitcoin के जैसे ही जिसमें को source code को releaze किया गया है MIT/X11 Software license के अन्तर्गत ।


Peercoin भी बिटकॉइन के जैसा ही sha256 algorithm का इस्तेमाल करता है और इसमें transaction और mining करने के लिए बोहोत ही कम पॉवर की जरूरत पड़ती है।


8) Ripple ( XPR):


Ripple 2012 me Releaze हुआ और ये distributed open source protocol के उपर based है Ripple एक real time gross settlement system (RTGS) है जो अपनी खुद की क्रिप्टोकरंसी चलाता है जिसे की Ripple (XPR) भी कहा जाता है।


यह बोहोत ही ज़्यादा और फेमस cryptocurrency है और इसकी overall market cap है लगभग $10 billion और इनके officials के अनुसार Ripple users को secure instant and nearly free global financial transactions किसी भी साइज के खाने के लिए प्रदान करती है और जिस में कोई भी चारजबैक्स नहीं होती है


9) Monero (XMR):


यह असल में bytecoin के fork से पैदा हुआ है। सन 2014 में और उसके बाद से ही यह प्रसिद्धि लाभ की है। ये cryptocurrency सभी सिस्टम जैसे कि window, Linux, make, Android, and Free BSD में काम करती है।


बिटकॉइन के जैसे ही monero भी privacy or decentralized पर फोकस करती है। Bitcoin और monero में जो सबसे महत्वपूर्ण अंतर है वह यह है कि Bitcoin में high-end GPUs का इस्तेमाल होता है वहीं monero में Consumer Level C का इस्तेमाल होता है।


Types of Cryptocurrency: (cryptocurrency in Hindi)


 Although there are many cryptocurrencies, but only a few of them are performing well, which you can use even apart from childhood.


 1) Bitcoin BTC:


 If we talk about cryptocurrency and not talk about bitcoin, then it is impossible because bitcoin is the most used cryptocurrency in the world which was created by Satoshi Naka Moto in 2009.


 It is a digital currency that can be used to buy goods and services online only.  It is a decentralized currency, which means that it is not controlled by any country's government body or any organization like the World Bank.


 If we do it after today, then its price has increased a lot today, its one coin is worth Rs 4300000.  From this you can find out about the importance of its present.


 2) Ethereum (ETH):


 Like Bitcoin, Ethereum is also an open source decentralized blockchain based computing platform, it was created by a person named Vitarik Buterin. Its cryptocurrency token is also called Ether.


 This platform helps its users to create a digital token with the help of which it can be used as a currency.  A recent hard fork caused Ethereum to split into two, Ethereum ETH and Etheriem classic ETC, the second-largest cryptocurrency after bitcoin.


 3) Lightcoin LTC:


 Litecoin is also a decentralized peer to peer cryptocurrency which is an open source software released under the MIT/X11 license in October 2011 by Charles Lee, formerly a Google employee.


 Bitcoin has a big hand behind its creation and many of its features are similar to bitcoin.  LightCoin's block generation time is 4 times less than that of bitcoin.  Therefore, the transaction takes place very quickly.  In this script algorithm is used for mining.


 4) Dogecoin (DOGE):


 The story of the creation of Dogecoin is very interesting.  It was compared to a dog to mock bitcoin, which later took the form of a cryptocurrency.  Its founder's name is Billy Markus.  Like LightCoin, it also uses a script algorithm.


 Today the value of Dogecoin is more than $197 million and is accepted in more than 200 merchants all over the world.  In this also mining happens very quickly as compared to others.


 5) Faircoin(FAIR):


 Fair coin is part of a very big grand socially conscious vision. Which is a Spain base co-operative organization and also known as Catalan integral cooperative organization or CIC.


 It uses the blockchain technology of bitcoin but does not depend at all on other cryptocurrencies such as faircoin mining or minting new coins with a more socially constructive design.


 But instead it uses certified validation nodes or CNDNs in lieu of proof of stack or proof of work for block generation.  Process of cooperation is used.


 6) Dash (DASH):


 Its earlier names were Xcoin and Darkcoin, Dash means digital and cash. It is an open source peer to peer cryptocurrency which is similar to bitcoin.


 But it has more features than bitcoin, such as users can complete their transactions in privatesend, instantsend, while in privatesend the transaction is completely safe, where users policy is given a lot of importance.


 Dash uses an uncommon algorithm called X11, whose specialty is that it becomes compatible with very less powerful hardware, so that more and more people can mine their own currency.  X11 is a very energy efficient algorithm that consumes up to 30% less power than scripts.


 7) Peercoin(PPC):


 Peercoin which is completely based on the bitcoin protocol and has many source codes similar to both.  In this, the proof of work is not only relied upon to verify the transaction but the proof of stake system is also taken into consideration.


 As the name suggests, peer coin is also a peer-to-peer cryptocurrency, similar to bitcoin, in which the source code has been released under the MIT/X11 software license.


 Peercoin also uses the same sha256 algorithm as bitcoin and requires very little power to do transactions and mining.


 8) Ripple (XPR):


 Ripple was released in 2012 and it is based on distributed open source protocol Ripple is a real time gross settlement system (RTGS) which runs its own cryptocurrency also known as Ripple (XPR).


 It is the most popular and popular cryptocurrency and has an overall market cap of around $10 billion and according to its officials, Ripple provides users with secure instant and nearly free global financial transactions of any size and without any chargebacks.  it occurs


 9) Monero (XMR):


 It is actually born out of the fork of bytecoin.  It has gained fame in the year 2014 and since then.  This cryptocurrency works in all systems such as window, Linux, make, Android, and Free BSD.


 Like bitcoin, monero also focuses on privacy or decentralized.  The most important difference between bitcoin and monero is that high-end GPUs are used in bitcoin while consumer level C is used in mone.

 

 क्रिप्टो करेंसी के फायदे(cryptocurrency in Hindi)


•  क्रिप्टो करेंसी में फ्रॉड होने की संभावना बहुत कम होती है


•  क्रिप्टो करेंसी की बात अगर की जाए तो यह नॉर्मल डिजिटल पेमेंट से ज्यादा सिक्योर होते हैं।


•  इसकी transaction fees बहुत कम है अगर हम दूसरे पेमेंट ऑप्शंस की बात की जाए तब।


•  इसमें अकाउंट बहुत ही सिक्योर होते हैं क्योंकि इसमें      अलग-अलग प्रकार के क्रिप्टोग्राफी एल्गोरिथ्म का प्रयोग किया जाता है



Advantages of Cryptocurrency(cryptocurrency in Hindi)


 • The possibility of fraud in crypto currency is very less


 • If we talk about crypto currency, then it is more secure than normal digital payment.


 • Its transaction fees are very low if we talk about other payment options.


 • Accounts are very secure in this because different types of cryptography algorithms are used in it.



क्रिप्टो करेंसी के नुकसान (cryptocurrency in Hindi)


• क्रिप्टो करेंसी में एक बार ट्रांजैक्शन करने के बाद उसका रिवर्स होना असंभव होता है क्योंकि इसमें रिवरस के कोई ऑप्शन नहीं होते।


• अगर आपके वॉलेट की आईडी खो जाती है तब वे हमेशा के लिए खो जाती है क्योंकि इसे दोबारा प्राप्त करना संभव नहीं है। ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके वॉलेट में स्थित होते हैं वह सदा के लिए खो जाते हैं।।



 Disadvantages of Cryptocurrency


 • Once a transaction is made in crypto currency, it is impossible to reverse it as there are no reverse options in it.


 • If your Wallet ID is lost, it is lost forever as it is not possible to recover it.  In such a situation, whatever money you have in your wallet is lost forever.




आज आपने क्या सीखा?


मुझे पूर्ण आशा है कि आज मैंने आपको क्रिप्टो करेंसी क्या है (cryptocurrency in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी।

और मैं आशा करता हूं कि आप लोगों को क्रिप्टो करेंसी के बारे में समझ आ गया होगा।


मेरी आप सभी से गुजारिश है कि अगर मेरा यह लेख आपको पसंद आया हो तो इसे आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट जैसे फेसबुक इंस्टाग्राम टि्वटर आदि पर शेयर करें। इससे मुझे भी मोटिवेशन मिलता है ताकि मैं आप लोगों के लिए भविष्य में भी ऐसे ही नॉलेज से रिलेटेड लेख लाता रहूं।


अगर मेरा लेख आप लोगों को पसंद आया हो तो कमेंट में लिखकर जरूर बताएं और अगर आप लोगों को कोई सवाल मुझसे पूछना हो तो आप मुझसे कमेंट में पूछ सकते हैं।


आप सभी के प्यार के लिए दिल से धन्यवाद।


What did you learn today?


 I sincerely hope that today I have given you complete information about what is Cryptocurrency.

 And I hope you guys have understood about crypto currency.


 I request all of you that if you liked this article of mine, then share it on your social media accounts like Facebook Instagram Twitter etc.  This also gives me motivation so that I keep bringing articles related to similar knowledge for you guys in future also.


 If you guys liked my article, then definitely tell me by writing in the comment and if you people have any question to ask me, then you can ask me in the comment.


 Heartfelt thanks for all your love

Comments

Popular posts from this blog

What Is Computer Network कंप्यूटर नेटवर्क क्या होता है In English | In Hindi

20 Health And Nutrition Tips / 20 स्वास्थ्य और पोषण युक्तियाँ